banner_image

ऑनलाइन आवेदन करने के लिए

सत्यम ग्रुप लेकर आये हैं, भिवाड़ी की प्रथम अफोर्डेबल आवासीय भूखंड योजना 'सत्यम ग्रीन्स  आवासीय भूखंड योजना'।

औधोगिक नगरी भिवाड़ी में स्थित टपूकड़ा औधोगिक क्षेत्र। वर्तमान में जिला राजस्थान का सबसे बड़ा औद्योगिक क्षेत्र है। इस परियोजना में 55 से लेकर 135 वर्ग गज तक के भूखंड उपलब्ध हैं।

इस परियोजना में आपको सरकार द्वारा अनुमोदित प्लॉट्स बहुत ही किफायती दरों में मिलेंगे।

हरे भरे वातावरण के बीच स्थित यह परियोजना EWS, LIG और MIG श्रेणी के ग्राहकों के लिए एक आदर्श उपहार है।

यह परियोजना आधुनिक जीवन शैली से सुसज्जित यह टाउनशिप आम आदमी के जीवन स्तर को सुधारने का अभूतपूर्व प्रयास हैं।

परियोजना की विशेषताएं

पूर्णतः सुरक्षित टाउनशिप

सभी स्वीकृतियां प्राप्त पट्टा शुदा प्लॉट्स

खुसखेड़ा रेवाड़ी मेगा हाईवे पर स्थित

परिसर में आकर्षक मंदिर

ग्राहकों की सुविधा के लिए कमर्शियल काम्प्लेक्स

चौड़ी सड़कें

विकास कार्य प्रगति पर

मूल्य सूची

Type A

  • श्रेणी
    Type A
  • क्षेत्रफल (वर्ग गज)
    135
  • चौ. एवं लं. (मीटर)
    6.84 x 16.50
  • निर्माण योग्य तल
    G + 2
  • बिक्री मूल्य
    14,85,000/-
  • आवेदन शुल्क
    11,000/-

Type B

  • श्रेणी
    Type A
  • क्षेत्रफल (वर्ग गज)
    170
  • चौ. एवं लं. (मीटर)
    6.84 x 16.50
  • निर्माण योग्य तल
    G + 2
  • बिक्री मूल्य
    14,85,000/-
  • आवेदन शुल्क
    11,000/-

अतिरिक्त शुल्क: PLC, मेंटेनेंस सुरक्षा निधि एवं पट्टा शुल्क प्लाट के मूल्य के अतिरिक्त देय होग।

फॉम वितरण तिथि

04 अप्रैल, 2021

फॉम जमा करने की अंतिम तिथि

02 मई, 2021

भुगतान का तरीका

क्र. भुगतान के चरण भुगतान प्रतिशत में
1. आवटंन के समय प्लाट की कीमत का 10%
2. आवंटन के 45 दिनों के भीतर प्लाट की कीमत का 15%
3. सीमांकन कार्य प्रारम्भ होने के समय प्लाट की कीमत का 15%
4. सीवर / पानी की लाइन का कार्य प्रारम्भ होने के समय प्लाट की कीमत का 15% + 50% PLC Charges
5. सड़क का कार्य प्रारम्भ होने के समय प्लाट की कीमत का 15%
6. विद्युत पोल लगने की शुरुआत के समय प्लाट की कीमत का 15% + 50% PLC Charges
7. बागवानी का कार्य प्रारम्भ होने के समय प्लाट की कीमत का 10%
8. रजिस्ट्री के पूर्व, कब्ज़े का प्रस्ताव दिए जाने के समय प्लॉट की लागत का 5% + IFMS / पट्टा शुल्क सहित अन्य अतिरिक्त शुल्क
अन्य महत्वपूर्ण शर्तें

आवंटी को लीज़ डीड पंजीयन / पट्टा का खर्च स्वयं वहन करना होगा तथा उसके पश्चात् ही प्लॉट का भौतिक कब्ज़ा विकासकर्ता द्वारा दिया जावेगा।

सामान्यतः आवंटी, आवंटित प्लॉट का 10 वर्ष की अवधि तक विक्रय अथवा हस्तांतरण नहीं कर सकता है किन्तु यदि कोई व्यक्ति प्लॉट को 10 वर्ष से पूर्व विक्रय करना चाहता है तो ऐसे विक्रय के लिए उसस नियमानुसार शुल्क वसूल कर, किए गए पंजीकृत विक्रय पत्र अथवा हस्तांतरण दस्तावेज़ के आधार पर हस्तान्तरण की अनुमति दे दी जावेगी।

प्लॉट 99 वर्ष की लीज़ पर आवंटित किए जावेंगे।

विद्युत कनेक्शन शुल्क, रजिस्ट्री सम्बंधित शुल्क अतिरिक्त देय होगा, साथ ही कोई अन्य कर यदि सरकार को देय होता है तो उसकी पूर्ण ज़िम्मेदारी आवंटी की रहेगी।

आवेदक द्वारा नियम के विरूद्ध एवं गलत तथ्य भरने पर लॉटरी में प्लॉट निकलने के बावजूद भी आवंटित प्लॉट निरस्त कर दिया जावेगा।

विकास चरणों को किसी भी क्रम में भुगतान के लिए बुलाया जा सकता है जो ऊपर वर्णित अनुक्रम के बावजूद डेवलपर द्वारा किए गए कार्य पर निर्भर करता है।

आवेदक भारत का नागरिक होना चाहिए एवं आवेदक को वयस्क (आयु 18 वर्ष) होना चाहिए।

प्लॉट्स के आवंटन के लिए आवेदक की न्यूनतम मासिक आय रु.15000 होनी चाहिए।

आवेदक के स्वयं के परिवार की सकल मासिक आय (पति/पत्नी एवं आश्रितों की आय) वित्तीय वर्ष 2020-21 के आधार पर होनी चाहिए । आवेदकों की आय श्रेणी निर्धारण के लिए आय की संगणना आवेदक की कुल मासिक आय के आधार पर की जाएगी । कुल आय में सभी स्त्रोतों से हुई अर्जित आय होगी।

आवेदक का किसी भी बैंक में खाता होना अनिवार्य है, एवं आवेदन पत्र में उसका विवरण अवश्य भरें । यह माना जाता है कि बैंक ने ऐसे खातों के सम्बन्ध में भारतीय रिज़र्व बैंक के *KYC* मानकों का पालन किया है।

परिवार से अभिप्राय पति / पत्नी और आश्रित सम्बन्धियों से है।

आय संगणना आवेदक की स्वयं एवं सभी आश्रितों की कुल वार्षिक आय के आधार पर की जावेगी । निर्धारित प्रपत्र में ही आय प्रमाण-पत्र प्रस्तुत किया जावे । वेतन स्लिप एवं अन्य प्रपत्र मान्य नहीं होंगे एवं आवेदन पत्र निरस्त कर दिया जायेगा। नोटरी से प्रमाणित आय प्रमाण पत्र मान्य नहीं होगा । आय प्रमाण-पत्र नियोक्ता अथवा राजपत्रित अधिकारी का ही मान्य होगा।

आवेदक सही खाता संख्या अंकित करें तथा इस खाते को आवंटन/रिफंड प्राप्त होने तक बन्द न करावें । ड्रा में असफल रहने पर यह सूचना आपके रिफंड को शीघ्र लौटाने में सहायक होगी।

आवंटन ड्रा के माध्यम से स्थानीय निकाय के वरिष्ठ अधिकारी के समक्ष निकाला जायेगा।

पात्र आवेदकों को उपलब्ध प्लॉट्स के आधार पर ड्रा के माध्यम से आवंटन किया जायेगा।

इस योजना में आवेदन करने हेतु आवेदन पत्र हमारे चुनिंदा विक्रय केन्द्र पर उपलब्ध है। आवेदन पत्र हमारे विक्रय प्रतिनिधि से या चुनिंदा विक्रय केन्द्र से प्राप्त किये जा सकते है एवं www.satyamgreen.com पर लॉग-इन करके ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते है।

आवेदन पत्र पूर्ण रूप से भरकर निम्नानुसार आवेदन शुल्क का चैक या डी.डी. के साथ आवश्यक दस्तावेजों के साथ हमारे विक्रय प्रतिनिधि या विक्रय केंद्र में जमा करवायें। आवेदन शुल्क का चैक या डी.डी. ‘नमन श्रीगोविन्दम रियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड’ के नाम से देय होग। आवेदन शुल्क या अन्य कोई भी राशि नगद में स्वीकार नहीं की जायेगी।

प्लॉट हेतु आवेदन शुल्क: TYPE A रु.11,000/- , TYPE B रु.7,000/- एवं TYPE C रु.5,000/- निर्धारित किया गया है, जो कि नॉन रिफंडेबल है। प्लॉट का आवंटन ड्रॉ के माध्यम से किया जायेगा । ड्रा में प्लॉट के सफल आवंटन के पश्चात् आवंटन रद्द नहीं किया जावेगा अर्थात एक बार प्लॉट निकल आने के बाद आवेदन शुल्क वापस नहीं होगी। आवंटन रद्द कराने पर आवेदन शुल्क जब्त हो जाएगी।

ड्रा में प्लॉट के सफल आवंटन के पश्चात् आवंटी को ड्रा की तिथि पर प्लॉट की 10% राशि का डिमांड ड्राफ्ट (जो नमन श्रीगोविन्दम रियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर देय होगी) उसी समय जमा करवानी होगी, अन्यथा उनका आवंटन निरस्त कर प्लॉट किसी अन्य हितग्राही को आवंटित कर दिया जायेगा।

कुछ चुनिंदा प्लॉट्स पर स्थान के आधार पर, जैसे कार्नर प्लॉट्स, 9 मीटर व 24 मीटर रोड पर स्थित प्लॉट्स पर अतिरिक्त शुल्क (PLC) लिया जायेगा।

प्लॉट्स की संख्या से अधिक आवेदन आने की स्थिति में ड्रा में सफल आवंटन पत्रों के अलावा सभी आवेदन पत्रों को 7 दिनों तक प्रतीक्षा सूचि में रखा जायेगा । आवंटित प्लॉट्स में से जिन हितग्राहियों का भुगतान समय से नहीं आता है तो उन हितग्राहियों का आवंटन रद्द करके प्रतीक्षा सूचि वालों का आवंटित कर दिया जायेगा।

किसी भी सशर्त आवेदन को स्वीकार नहीं किया जायेगा। अपूर्ण आवेदन पत्रों को आवेदक को बिना कोई कारण बताये सीधे ही अस्वीकार कर दिया जायेगा। ड्रा में असफल आवेदकों को उनका आवेदन शुल्क 30 से 45 दिवस के अंदर उनके द्वारा दिए गए बैंक अकाउंट में जमा करा दी जाएगी। इस हेतु निर्देशित किया जाता है कि आवेदक आवेदन पत्र में अपनी संपूर्ण जानकारी एवं सही बैंक खाता अंकित करें तथा इस खाते को आवंटन / रिफंड प्राप्त होने तक बंद ना करावें।